शनिवार, 21 नवंबर 2009

यहां नहीं पिलाई तो पक्का समझ ले जन्नत में तुझे पीने नहीं दूंगा !

आज भाई अनिल पुसदकर नें अंडे के बहाने , फ़ूड हैबिट्स को लेकर पुरानी पीढ़ी बनाम नई पीढ़ी की सोच के अंतर और फिर एक बढ़िया तालमेल की ओर ध्यान आकर्षित किया है ! उनके संस्मरण को पढ़ते हुए , दिलचस्प लगा कि दादी के लिए अंडा सर्वथा त्याज्य है फिर भी डाक्टर के सुझाव और बच्चे की सेहत को ध्यान में रख कर उन्होंने एक स्पेस दिया कि , घर के अन्दर नहीं चलेगा लेकिन बाहर खिला देना ! इधर बच्चे के पिता नें भी कितनी शालीनता से घर से बाहर जो भी व्यवस्था की , उस पर पर्देदारी की गुंजायश रखी ताकि पुरानी पीढ़ी की भावनायें हर्ट ना हों ! दरअसल ये किस्सा दोनों पीढ़ियों के पारस्परिक एडजस्टमेंट का शानदार उदाहरण है और समाज में अमूमन ऐसा ही होता है , यानि कि परिवर्तनों की अपरिहार्यता और किंचित ना नुकुर के साथ उनकी संस्वीकृति ! ..... और हाँ इस तरह के सभी किस्सों में भांडा फोड़ का संयोग , ज्यादातर बच्चों , यानि कि तीसरी पीढ़ी के हिस्से में ही आता है ! संस्मरण पढ़कर सुखद अनुभूति हुई और एक पुराना वाकया याद आ गया !
हुआ यूं कि ....एक मजहबी मित्र कुछ फिक्रमंद से , मेरे पास आये और बोले डाक्टर नें कहा है सर्दियाँ हैं , बच्चे को हर दिन एक ढक्कन ब्रांडी पिलाओ ! ये ब्रांडी तो शराब हुई ना जी ? मैंने कहा बच्चा कमजोर है...बीमार है , डाक्टर नें कहा है तो पिला दे ना भाई ! वे हिचकिचाये और बोले लेकिन शराब.....? मैंने कहा वो तो तुम भी पीते हो , फिर बच्चा पी ले तो क्या फर्क पड़ेगा ! वो नाराज होने लगे बोले क्या वाहियात बात करते हो मैं कब शराब पीता हूँ ? मैंने पूछा तो परसों शाम क्या पी रहे थे ? वे बोले 'कफ़ सिरप' , लेकिन कफ़ सिरप तो दवा हैं ना जी ! मैंने कहा भाई मेरे , इस दवा में भी अल्कोहल है और ब्रांडी में भी ! अब आगे तू तय कर ले कि बच्चे को दवा मान के पिलायेगा या शराब ! ......... और हाँ यहां नहीं पिलाई तो पक्का समझ ले जन्नत में तुझे पीने नहीं दूंगा !

2 टिप्‍पणियां: