शनिवार, 28 फ़रवरी 2009

सिस्टर लैला संग ब्रदर मजनूं

पारिवारिक निर्धनता ने उन्हें अरब सागर के तटवर्ती राज्य से उठाकर सुदूर आदिवासी अंचल में ला पटका ! युवावस्था के लगभग ढल चुकने तक दोनों ने जी तोड़ मेहनत की और जैसे तैसे इस काबिल हुए कि पैसों के परे , प्रेम के विषय में भी सोच सकें ! विषम लिंगियों के मध्य आकर्षण की सहज पृवृत्ति ने दोनों की तकदीरों को एक करने का निश्चय कर डाला था ! अतः प्रेमानुभूति के घनीभूत होने से पेश्तर सिस्टर लैला ने ब्रदर मजनूं से शादी कर डाली !
इस प्रेम कथा के नायक नायिका से अपरिचित , जो भी सुनता , पहले सिर धुनता ! फ़िर नैतिकता पर कुछ लंबे प्रवचन देता हुआ संस्कृति रक्षकों के मौन की निंदा करता और कालांतर में हमारी ही तरह से अपनी तात्कालिक प्रतिक्रिया पर खिसियाता हुआ झेंप मिटाने की कोशिश करता ! अरे भाई , हममें से ज्यादातर इन्सानों को खुदा ने दिमाग से तेज जुबानें दी हैं तो इसमे हमारी गलती कहां है ! खैर ........
इस प्रकरण में कहना शेष ये है कि सिस्टर लैला (नर्स ) पर नियत तो डाक्टर की ख़राब थी पर उसे ब्रदर मजनूं (धार्मिक शिक्षा के विद्यार्थी ) से प्रेम था और उसने वही किया जो उसके दिल ने कहा !

4 टिप्‍पणियां:

  1. अंत तो वाकई जोरदार है इस प्रविष्टि का. हमें भी अपने दिमाग पर तरस आ रहा है.

    अच्छी प्रविष्टि. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं