गुरुवार, 2 जुलाई 2009

मैंने कहा जी मैं भी यही बेचता हूं और उसने फोन ......

झमाझम बारिश के दरम्यान कल शाम तक़रीबन ५.३० बजे आफिस से लौटा , सोचा चाय सुडकते हुए एक दो अदद ब्लाग्स पर टिप्पणी ठोंक दी जाये , लिहाज़ा पढने का सिलसिला शुरू ही किया था और मूड बन ही रहा था कि मोबाईल लेकर बिटिया पहुंच गई , पापा आपका फ़ोन है , देखा अनजान नंबर था , चाय के स्वाद और ब्लाग्स के आस्वाद में व्यवधान डालने वाले फ़ोन को रिसीव करना अच्छा नहीं लगा , सोच में आई कड़वाहट को दबाये बिना कहा , हेल्लो - उसपार कोई लड़की थी जिसने कुछ इस अंदाज में बोलना शुरू किया , गोया दुनियाये फानी के ख़त्म होने का वक़्त आ चुका हो और उसे इससे पहले अपनी बात पूरी कर लेना चाहिये ! वो बोल रही थी बिना सांस लिए /तेज़ रफ्तार ! मैं हरिद्वार ......हमारा संस्थान .......एक मुखी रुद्राक्ष ...... बारह हजार मंत्रो से अभिपूरित..........मैंने उसे रोकना चाहा और कहा सुनिये , पर उसने सुना नहीं , बस बोलती रही ! आपका घर धनधान्य से परिपूर्ण ......कोई बाधा नहीं ......राहू केतु शनि आपका बाल भी बांका नही .....घर में यदि वास्तु दोष हो तो वो भी दूर हो जायेंगे ! यूं तो इसकी कीमत है , मात्र ५५००/ रुपये पर आप हमारे 'लकी नंबर' है इसलिए आपको केवल १५५० /रुपये में हम इसे देंगें , इतना ही नही साथ में चार गिफ्ट .........!
इंसान से 'लकी नंबर' में बदल चुका मैं , उसे बोलने से रोक नहीं सका इसलिए खामोश रह कर सुनने लगा ! पर उसे मेरी खामोशी भी रास नहीं आई ! बोली सुन रहे हैं ना ? मैंने कहा जी ...सुन रहा हूँ , वो आश्वस्त हुई और बोलती रही ! बात ख़त्म हुई तो मुझे लगा जैसे किसी नें केवल दो मिनट में एक अध्याय पढने की शर्त लगा दी थी और वो शर्त जीत गई हो !
उसने कहा , अपना आर्डर बुक कराइये , कृपया अपना नाम और पता नोट करवा दीजिये ! मैंने कहा मुझे सोचने के लिए कुछ घंटे भी नहीं देंगीं ? उसने कहा ये आफर अभी अभी के लिए है बाद में छूट नहीं मिलेगी और कीमत ५५०० / रुपये हो जायेगी ! मैंने कहा कोई बात नहीं , मुझे सोचने दीजिये और आपका पता नोट करवा दीजिये ताकि मैं बाद में संपर्क कर सकूं ! अब वो उदास सी लगी और बोली इसी फोन नंबर पर बता दीजियेगा ! वैसे आप करते क्या हैं ? मैंने कहा जी मैं भी यही बेचता हूं और उसने फ़ोन डिस्कनेक्ट कर दिया !

5 टिप्‍पणियां:

  1. ईंट का जवाब पत्थर से...वाह...आजकल ऐसे फोन आना आम बात हो गयी है...लड़की की भी मजबूरी होगी उस से क्या शिकवा करना...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे जब भी कोई अनजाने नंबर से 'good morning sir' कहता/कहती है...बस मैं तो मैं फ़ोन काट देता हूँ...इसी दर के मारे कि कहीं मुझे भी कुछ बेचना न पड़ जाए :-()

    उत्तर देंहटाएं
  3. आप भी यही बेचते हैं? आप बताइए आप कितने में बेच रहे हैं?
    यह बढिया रही।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैं भी इन अन्जान नंबर वाली लड़्कियों से बहुत डरता हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं