शुक्रवार, 26 जून 2009

कितना भी सजा दो मेरे चेहरे को : मेकअप से ....?

पिछली प्रविष्टि में 'भाईजान ' का जिक्र किया था ! घटना के बाद हमारा दोस्ताना प्रगाढ़ हुआ , हम हर शाम महफिलें ज़माने लगे ! कई बार अचानक ख़बर भेजते चिंतन /अक्षयवट के लिए आपकी रिकार्डिंग करना है अभी पहुँचिये , मैं झुंझलाता मगर उनके मित्रवत आग्रह को टाल नहीं पाता ! बाद में हर शाम को घटना की शल्य क्रिया की जाती ! कई वर्षों तक यूँहीं चलता रहा और वे रिटायर हो गये ! इस दरम्यान जगदलपुर में दूरदर्शन आ चुका था सो रिटायर्मेंट के बाद वो वहां ठंस लिये ! ......एक तरह से ये अच्छा ही हुआ ! टी.वी .स्क्रीन पर दिखना उनकी दिली ख्वाहिश थी ये ना होता तो ........शायद म्रत्यु के बाद भी इहलोक ना छूटता !
पिछले हफ्ते मैं किसी मीटिंग में व्यस्त रहने वाला था , वो घर आ धमके और कहा छत्तीसगढ़ में विकास और नक्सलवादं पर चर्चा करना है , कल रिकार्डिंग होगी आप आ जायें ! मैंने कहा भाईजान मैं सरकारी नौकरी में हूँ और इस मुद्दे पर अपने ख्यालात रखना मुझे रिस्की लगता है ! आप जानते हैं सच कड़वा होता है और मैं .....! इसके अलावा कल मैं दिन भर बिजी हूँ ! ये मुमकिन नहीं है ! आप फलां को बुला लीजिये ! उन्होंने कहा बस २० मिनट के लिये आइये , हमारा स्टूडियो तैयार रहेगा हम फोन करेंगे ! शार्प २० मिनट में फ्री कर देंगे ! मीटिंग में से समय निकालिये ! मेरा कोई बहाना उन्हें मंजूर नहीं था ! कार्यक्रम के प्रोड्यूसर का ख्याल था एक पत्रकार ,एक समाज सेवी और एक मैं यानि कि शासन का कारिन्दा , चर्चा के लिये बढ़िया टीम है ! ....तय शुदा समय से पहले उन्होंने मुझे फोन किया और मैं बमुश्किल पॉँच मिनट में उनके दरबार में हाज़िर हो गया ! कैमरे के सामने पहुँचते ही वो लोग बारी बारी हमारे चेहरों को फोटोजेनिक बनाने की कोशिशों में लग गये ! काहे के बीस मिनट पूरा एक घंटा लग गया ! मुझे बहुत असहज लग रहा था , मैंने कहा भैय्या मेरा चेहरा दिखाना चाहते हो या कि विषय पर मेरे ख्यालात रिकार्ड करोगे ! क्या फर्क पड़ेगा कि मैं सुंदर ना भी दिखूं ! ..... वो माने ही नहीं ! उनके तामझाम से मेरी बौखलाहट बढती ही जा रही थी !
सोच कर आया था , रिस्क नहीं लूँगा , डिप्लोमेसी से काम लेते हुए , संवेदनशील मुद्दे पर हाथ डाले बगैर विकास की बात करूंगा ! पत्रकार मित्र नक्सलवादं पर चर्चा कर लेंगे ! वगैरह वगैरह ! रिकार्डिंग तक सब कुछ बदल गया ! मेरे ख्यालात , पहले से तयशुदा डिप्लोमेसी के नियंत्रण से बाहर थे , उबल रहे थे ! और मैं वो कह रहा था , जो दिल में था , जो सच था ! प्रोग्राम प्रोड्यूसर / भाईजान / पत्रकार मित्र / समाज सेवी सारे के सारे अवाक ,मुझे देख रहे थे और मैं कह रहा था कितना भी 'सजा दो मेरे चेहरे को : मेकअप से मेरे ख्यालात तो नहीं बदल जायेंगे ' मैं वो कहूँगा जो मेरे दिल में है ! जो मैं सोचता हूँ !
सच ये है कि आप रंगरोगन से मेरे चेहरे का जुगराफिया कृत्रिम और मनमोहक बना सकते हैं / दिखा सकते हैं ! लेकिन विचार अपनी मौलिकता / नैसर्गिकता के लिये कभी भी ,किसी भी मेकअप और पैचवर्क के मोहताज नहीं हुआ करते !

3 टिप्‍पणियां:

  1. अपने आप में तो सभी स्‍वाभाविक होते हैं, लेकिन सार्वजनिक होने पर लोग सारा हिसाब-किताब चाहे-अनचाहे छवि का करने लगते हैं. आईना देखते हुए, आइने पर लगा दी गई बिंदी का श्रृंगार तब तक साथ देता है, जब तक आप आईने के सामने हैं.

    उत्तर देंहटाएं