रविवार, 21 अक्तूबर 2018

चंदू शिकरा

एक बार शिकरे ने खरगोश के साथ छल करने का फैसला किया, उसने कहा, आकाश स्थित भूमि में एक कार्यक्रम है और वो, खरगोश को वहां तक ले जा सकता है ! यह सुनकर खरगोश ने अपना गिटार लिया और शिकरे की पीठ पर बैठ गया ! जब वो दोनों ऊंचे आकाश में थे तो शिकरे ने खुद को हिलाकर खरगोश को जमीन पर गिराना चाहा ! इस पर खरगोश ने गुस्से में आकर अपना गिटार, शिकरे के सिर पर ज़ोर से दे मारा, इसके बाद वो, शिकरे के पंख खींच कर, उनके सहारे फिसल कर / ग्लाइड कर के, आहिस्ता आहिस्ता जमीन में उतर गया ! जब शिकरे ने अपने सिर में फंस गए गिटार को झटक कर निकालना चाहा तो उसके सिर के सारे बाल / पंख उखड़ गए और तब से, उसके वंशज भी गंजे सिर / चंदू होने लगे हैं...